Wazifa’s/वज़ीफ़ा

वज़ीफ़ा क्या है/what is wazifa?

Wazifa ka matlab padhne wala amal hota hai. and Jis amal ko padhkar dua ki jaaye use wazifa kehte hai. Wazifa allah ke naam jisme Quraani Aaytein ya surat hoti hai. Quraan, hadees, asmaoul husna (allah ke 99 naam). Aasma un nabi (Nabi ke 99 nam) Durud shareef and duaayein etc.wazifa@7860083011

Quraani or Nuraani Wazifa

Wo wazifa jisme Quraani Aayat and surat ho Quraani wazifa kahlata hai.

Quraani kalaam ke alawa sabhi aayat allah ke 99 naam and duaayein padhi jaaye us ko Nuraani Wazifa kehte hai.

Wazifa Hindi Meaning

“Wazifa” Meaning “Sabhi kaamo ko pura karne ke liye” ki gyi dua hai. Jo Quraan ki Aayat or surat ko padh kar apne kaam ko pura karne ke liye duaa hai. Allah ke 99 naam ko dua ke roop me padhne se sabhi kaam ban jate hai. Because Allah ki aayat or surat me ruhaani shakti hoti hai. Jise padhne maatr se saare kaam ban jate hai. dua se sabhi dukh-dard khtam ho jate hai.

jo bhi koi insaan subah- shaam Quraan ki aaytein or surat padh lega. Fazle rabbi se din aur raat ibaadat karne waale ko jitna sawab milta hai. Is dua ke padhne waale ko utna sawab mil jayega. Yaad rakhen ki aadhi raat dhalne ke baad suraj nikalne tak subah hai. And dopahar dhalne ke baad guroob aaftab tak shaam hai.

“वज़ीफ़ा” का मतलब?

“वज़ीफ़ा” का मतलब है “सभी कामो को पूरा करने के लिए” की गइ दुआ है। जो कुरान की आयत या सूरत को पढ़ कर अपने काम को पूरा करने के लिए दुआ है। अल्लाह के 99 नाम को दुआ के रूप में पढ़ने से सबी काम बन जाते हैं। अल्लाह की आयत या सूरत में रूहानी शक्ति होती है। जिस पढ़ने मातृ से सारे काम बन जाते हैं। दुआ से सभी दुख-दर्द खतम हो जाते हैं।

जो भी कोई इंसान सुबह- शाम कुरान की आतीं या सूरत पढ़ लेगा। फजले रब्बी से दिन और रात इबादत करने वाले को जितना देखा मिला है दुआ के पढ़ने वाले को उतना ही मिल जाएगा। याद रखने की आधी रात रखने के बाद सूरज निकलने तक सब है। और दोपहर ढालने के बाद गुरु आफताब तक शाम है।